Auto blogging क्या है,और इसे कैसे करते हैं?

0
31

ऑटो ब्लॉगिंग क्या है? और इसे कैसे करते हैं?

दोस्तों आपने ऑटोब्लॉगिंग का नाम तो कहीं ना कहीं सुन रखा होगा तो आज की इस पोस्ट में हम इसी के बारे में बात करने वाले की ऑटोब्लॉगिंग आखिर कर क्या होती है? और इसे कैसे किया जा सकता है? साथी साथ आज किस पोस्ट में हम आपको इसके फायदे एवं नुकसान के बारे में बताने जा रहे हैं। और आप भी सभी प्रकार की जानकारी को अपने हाथों में लेना चाहते हैं। तो पोस्ट में शुरू से लेकर अंत तक जरूर बने रहें साथियों आज के टाइम में बहुत से ऐसे लोग हैं। जो कि ब्लॉगिंग को अपना करके अच्छे खासे पैसे कमा रहे हैं। तू इसी तरह आप भी उनके जैसे पैसे कमा सकते हो।

इसके लिए सबसे पहले आपको एक ब्लॉग बनाना होगा। और उस पर अपनी मनपसंद टॉपिक पर आर्टिकल लिखकर उसे पॉलिश करना होगा। और जब आपके ब्लॉग पर अधिक से अधिक विजिटर आने लग जाएंगे। तब उसके द्वारा आप कमाई कर सकते हो बिल्कुल सेम प्रोसेस ऑटोब्लॉगिंग की है। इसी के द्वारा भी आप ऐसे ही पैसे कमा सकते हो बस ऑटोब्लॉगिंग थोड़ी सी अलग होती है। यानी कि यह एक ब्लॉगिंग का तरीका होता है। लेकिन उसमें आप थोड़ी बहुत मेहनत करने से ही पैसे कमा सकते हैं। मगर ऑटोब्लॉगिंग में आपको पूरी नॉलेज होना बेहद आवश्यक होता है तो आइए अब ऑटोब्लॉगिंग के बारे में विस्तार पूर्वक रूप से जान लेते हैं।

ऑटो ब्लॉगिंग की पूर्ण विवेचना ?

साथियों ऑटोब्लॉग इनको आप ऑटोमेटिक ब्लॉगिंग का नाम भी दे सकते हो। इसके नाम से ही आप जान गए होंगे कि इसमें पोस्ट लगने की कोई भी आवश्यकता नहीं पड़ती है। बल्कि ब्लॉग पर ऑटोमेटिक पोस्ट पब्लिश होती रहती हैं। यानी कि ऑटोब्लॉगिंग में किसी अन्य वेबसाइट के कंटेंट आपकी वेबसाइट पर ऑटोमेटिक अपडेट होते हैं। आपको केवल इसके लिए थोड़ी बहुत सेटिंग करने की आवश्यकता पड़ती है। और किसी भी अन्य दूसरे लोकप्रिय ब्लॉग या फिर वेबसाइट के RSS feed को इस्तेमाल करके हम अपने ब्लॉग पर ऑटोमेटिक पोस्ट अपडेट करवा पाएंगे। यानी कि हम जिस ब्लॉग या फिर वेबसाइट का RSS इस्तेमाल कर रहे हैं। तो उस ब्लॉग पर जब भी कोई पोस्ट अपलोड होगी तो वही पोस्ट हमारे ब्लॉग पर भी ऑटोमेटेकली पब्लिश हो जाती है।

इस सब के बाद आपके मन में एक सवाल तो जरूर आया होगा। कि दूसरी किसी वेबसाइट कंटेंट जब हमारी वेबसाइट पर अपलोड होंगे तो इससे कहीं कॉपीराइट कंटेंट तो नहीं माना जाएगा तो आपकी जानकारी के लिए मैं आपको यहां पर सूचित कर दूं कि जब कभी भी आप कैसी ऑटोमेटिक सॉफ्टवेयर है। या फिर लगन का इस्तेमाल करते हो। तो उसमें कंटेंट एडिट करने का विकल्प पर भी होता है। जिसके द्वारा आप उस पोस्ट को एडिट भी कर पाओगे और जब आप उस पोस्ट के अंदर थोड़ी बहुत एडिटिंग कर दोगे तो फिर वह कॉपीराइट नहीं मानी जाएगी और आप यह भी जान लें कि यह साइट के फीड से पोस्ट पब्लिश करता है। और उस साइट को क्रेडिटबी प्रदान करता है। जिसकी वजह से कॉपीराइट का लफड़ा बहुत ही कम रहता है।

यदि आप लोगों को ब्लॉक करना चाहते हो। तो इसके लिए आपको एक ब्लॉग या फिर वर्डप्रेस पर एक वेबसाइट क्रिएट करनी पड़ेगी फिर उस वेबसाइट का आपको सेट अप करना पड़ेगा। उसके बाद आपको IFT TT वेबसाइट पर जाने के बाद अकाउंट भी बनाना पड़ेगा जब सेटअप पूरा हो जाए तो उसके बाद आप को आरएसएस फीड के माध्यम से आपके ब्लॉग पर पोस्ट पब्लिश होना शुरू हो जाते हैं। फिर उसके लिए आपको एक अच्छी होस्टिंग की आवश्यकता होती है। आप चाहो तो वीपीएस सर्वर का इस्तेमाल कर सकते हो।

ऑटो ब्लॉगिंग को कैसे करते हैं?

जैसा कि आपने अभी-अभी ऊपर पढ़ ही लिया होगा क्योंकि ब्लॉग में आपको पोस्ट लिखने की तो कोई जरूरत पड़ती नहीं है। बल्कि इसके पीछे आपके ब्लॉग पर पोस्ट ऑटोमेटेकली अपडेट होते रहते हैं मगर इसके बाद भी आपको थोड़ी बहुत सेटअप यहां पर करने पड़ते हैं. इसलिए अब हम आपको बताएंगे कि ऑटोब्लॉगिंग का सेटअप कैसे किया जाता है ?

साथियों इसके लिए सबसे पहले आपको blogger.com पर एक ब्लॉक बनाना पड़ता है। और आप जिस साइड की पोस्ट को कॉपी करना चाहते हैं। उस ब्लॉक का फील्ड यूआरएल तैयार आपको कर लेना होगा अब आपके मन में यह सवाल आया हुआ कि किसी भी ब्लॉक का फीड यूआरएल कैसे जान सकती हैं। तो फिर आपको यहां पर बता दें कि किसी भी शर्ट का यूआरएल फीट जानने के लिए आपको अपने क्रोम ब्राउजर पर एक did RSS feed URL का एक एक्सटेंशन ऐड करना पड़ता है। फिर उसके बाद आप किसी भी साइट का फीड यूआरएल पता कर पाओगे।

ब्लॉगर में ऑटोब्लॉगिंग का सेट अप कैसे करें?

तो आई साथियों अब हम जान लेते हैं। कि ऑटोब्लॉगिंग का सेटअप कैसे करते हैं? इसके लिए सबसे पहले आपको IFT TT वेबसाइट पर जाकर अकाउंट बनाना पड़ता है। अकाउंट बनाने के लिए सबसे पहले आपको जीमेल आईडी को enter your email box के अंदर डाल देना होगा। फिर उसके बाद आपको गेट स्टार्टेड पर क्लिक कर देना होगा। इसके बाद आपको अपना पासवर्ड डालकर साइन अप कर लेना होगा जब आपका अकाउंट बन जाए तो फिर आपको पहले अपने डैशबोर्ड में चले जाना है। और वहां पर आपको my applets पर क्लिक कर देना है। इसके बाद आपके सामने एक न्यू पेज ओपन होकर आता है।इसके अंदर आपको new applets पर क्लिक कर देना होगा। इसके बाद आप लोग ” if+ this then that ” मैं + this क्यों पर आपको क्लिक कर देना होगा.

इसके बाद आपको choose a service के अंदर आपको अपना प्लेटफार्म ( ब्लॉगर एंड वर्डप्रेस ) को सेलेक्ट करना पड़ेगा इसके भाग जाओ आप टॉपिक को सेंड करें तो फिर आपको कनेक्ट बटन पर क्लिक कर देना है। इसके बाद आप लोग choose Trigger को सेलेक्ट कर लें। इसके बाद आपको आपके सामने जीमेल अकाउंट की परमिशन को एलाऊ करने के लिए बोलेगा तो फिर आपको उसे अलग कर देना है। फिर आपने अपने ब्लॉगर पर जितने भी साइट बना रखे हैं. उनमें से आपको किसी एक साथ को चुन लेना होगा कहने का मतलब है। जिस साइट में आप ऑटोब्लॉगिंग करना चाह रहे हो।

अब आप create a post पर क्लिक कर देना है। इसके बाद आप अपने ब्लॉग पर जिस प्रकार की पोस्ट अपडेट करना चाहते हैं। उसकी कैटेगरी को यहां पर सेलेक्ट कर लेना है. के बाद आप दूसरी वेबसाइट के आर एस एस स्पीड से ऑटोमेटिक पोस्ट पब्लिश करवा लोगे। इसके बाद आपको create action button पर क्लिक कर देना होगा और अंत में आपको finish button के ऊपर टेप कर देना होगा। तो इस प्रकार आप अपने ब्लॉग पर ऑटोमेटिक पोस्ट को पब्लिश कर पाओगे। और आप इस प्रकार से ब्लॉक में popads infolink एवं bidvertiser जैसे अड नेटवर्क के एड लगाकर पैसे कमा सकते हो.

ऑटो ब्लॉगिंग के क्या-क्या फायदे होते हैं?

•फोटो ब्लॉक को एक बार सेटअप कर देने से आपके ब्लॉग पर ऑटोमेटिक ली अपने आप पोस्ट पब्लिश हो जाते हैं।

•यदि आपके पास में पोस्ट लिखने के लिए टाइम नहीं है। तो फिर आप ऐसे समय में ऑटोब्लॉगिंग का सहारा ले सकते हो। यह विकल्प आपके लिए बहुत ही अच्छा साबित होगा।

•अगर आप अपने ब्लॉग पर रोजाना पोस्ट अपलोड करोगे तुलसी आपके ब्लॉग पर अच्छा खासा ट्रैफिक आ जाएगा। •और आपके ब्लॉग पर जितना ज्यादा ट्रैफिक आएगा। आपकी अर्निंग उतनी ही अधिक होगी।

• आप लोग एफिलिएट मार्केटिंग ऐडसेंस या फिर ऐडसेंस के अल्टरनेट ऐड नेटवर्क्स जैसे कि बिडवरटाइजर प्रोपेलर एड्स के एड्स लगाने से अच्छी खासी कमाई कर सकते हो।

जानिए ऑटो ब्लॉगिंग के नुकसान के बारे में ?

दोस्तों अगर आप ऑटोब्लॉगिंग करना चाहते हैं। तो इसके फायदों के साथ-साथ आपको उसके नुकसान ओं के बारे में भी जानना चाहिए। और उनके बारे मैं जानना आपके लिए बेहद आवश्यक होता है।

• जब आपके विजिटर को यह पता लग जाएगा क्या आपने कंटेंट किसी दूसरी साइड से कॉपी कर रखा है। तो भी आपकी वेबसाइट पर आना बंद कर देंगे इससे आपकी साइट का ट्रैफिक लॉस हो सकता है।

• डुप्लीकेट कंटेंट होने के कारण से गूगल आप का पोस्ट अपने सर्च इंजन में कभी भी रैंक नहीं करता है। और इस वजह से आपकी साइट को अधिक ट्रैफिक नहीं मिलेगा।

• कॉपीराइट होने के कारण से गूगल आपके ब्लॉग को किसी भी समय penalized कर सकता है.

• यदि आपका ब्लॉग blogspot पर है। तो फिर गूगल आपके अकाउंट को पूरी तरह से क्लोज कर सकता है।

• यदि आप लोग अपने एप्रूव्ड ऐडसेंस अकाउंट के एड्स को ऑटोब्लॉगिंग के लिए इस्तेमाल करते हो तो फिर आपका ऐडसेंस अकाउंट कभी भी सस्पेंड या फिर डिसएबल हो जाएगा।

दोस्तों अगर ऐसे में आप एक प्रोफेशनल ब्लॉगर हैं। तो यह आपके लिए काफी हानिकारक साबित हो सकता है। क्योंकि आप लोग इस बात से अच्छी तरीके से वाकिफ होंगे कि आज किस टाइम पर ऐडसेंस अकाउंट एप्रूव्ड करवाना कितना ज्यादा मुश्किल हो जाता है। आप लोग कड़ी मेहनत करने के बाद अपनी ऐडसेंस अकाउंट को एप्रूव्ड कर पाते हो तो ऐसा बिल्कुल भी ना करें।

निष्कर्ष ( conclusion )

दोस्तों आज की इस आर्टिकल में हमने आपको बताया है। कि ऑटो ब्लॉगिंग क्या होती है।और आप इसे किस प्रकार कर सकते हैं? इसी की साथ मैंने आपको ऑटोब्लॉगिंग से संबंधित और भी कई प्रकार की जानकारी इसी पोस्ट के माध्यम से दे दी है। हमें उम्मीद है। कि आपको हमारे द्वारा दी गई है जानकारी बहुत पसंद आई होगी। अगर आपको इस पोस्ट से जरा सा भी लाभ हुआ हो तो इसे आगे तक जरूर शेयर करें धन्यवाद।

Previous articleFlipkart से पैसे कमाने के आसान तरीके – 2022
Next articleVideo Calling के लिए top 5 बेस्ट एंड्रॉयड एप्लीकेशन 2022
Hello नमस्कार 🙏दोस्तो स्वागत है आपका Jobvips.com वेबसाइट पर दोस्तों मेरा नाम SAUDAN SINGH है, और मैं धौलपुर राजस्थान का रहने वाला हूं। दोस्तों मैंने ग्रेजुएशन के साथ-साथ ब्लॉगिंग का भी कोर्स किया था और इसके अलावा मुझे ब्लॉगिंग के क्षेत्र में 3 साल से भी अधिक समय का अच्छा खासा एक्सपीरियंस है। दोस्तों "jobvips.com" वेबसाइट बनाने का मेरा मेन मकसद यही था कि मैं अपने सभी दोस्तों के साथ अच्छी-अच्छी जानकारी इस ब्लॉग के माध्यम से पहुंचा सकूं. दोस्तों इस ब्लॉग के माध्यम से मैं आपको ब्लॉगिंग, मेक मनी, टिप्स एंड ट्रिक्स, बैंकिंग, बिजनेस आइडिया, मार्केटिंग, यूट्यूब और सोशल मीडिया से रिलेटेड आपको टाइम टू टाइम जानकारी प्रोवाइड की जाएगी। दोस्तो यदि आपको इस वेबसाइट का कंटेंट पसंद आता है तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें। धन्यवाद 🙏।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here