फिक्स डिपॉजिट ( FD ) क्या है और इसके क्या फायदे हैं?

0
33

फिक्स डिपॉजिट ( FD ) क्या है ?

हेलो दोस्तों आज के पोस्ट आपके लिए सब से हट गए होने वाली है। क्योंकि आज की इस पोस्ट के अंदर आपको एक बहुत ही रोचक जानकारी मिलने वाली है।जो कि हो सकता है।आपके लिए काफी ज्यादा लाभदायक भी साबित हो सकती है। दोस्तों आपने कभी न कभी तो फिक्स डिपॉजिट यानी कि FD के बारे में तो कभी ना कभी तो जरूर सुना ही होगा और सुनने में यह कहती है। कि कितने पैसों की आप FD कर दो यह पैसे इतने साल में इतने सारे डबल हो जाएंगे और जब आपके पास पैसे रहते हैं। और आप उन्हें डिपाजिट करना चाहते हैं।

तो फिर आपके जहन में एक ना एक बार तो फिक्स डिपॉजिट का ख्याल तो आया ही होगा साथ में यदि आप भी फिक्स डिपॉजिट यानी कि FD के बारे में संपूर्ण जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं। तू इस पोस्ट में आगे तक बनी रहे क्योंकि इस पोस्ट में हम इसी के बारे में चर्चा करेंगे फिक्स डिपॉजिट क्या है?और इसे करने के तरीके क्या है? एवं इसके फायदे तथा इसके छुड़वाने के नुकसान के बारे में जानेंगे इसलिए पोस्ट में आग तक बनी रहे हैं। तो आइए साथियों शुरू करते हैं।

फिक्स डिपॉजिट क्या है?

दोस्तों कोई भी आम आदमी हो वह अपनी तनख्वाह से कुछ ना कुछ सेविंग यानी कि पैसे बचाने की करने की कोशिश में लगा ही रहता है। जिसकी वजह से हुआ पैसा किसी जरूरत में काम आ जाए और उसका काम बन जाए बैंक अकाउंट में हम अपने पैसे को जमा कर देते हैं। जिससे हमें ब्याज भी अधिक मिलता है। तो साथियों ऐसे ही में बिना किसी डर और रिस्क के अपने पैसे को इन्वेस्ट करना फिक्स डिपॉजिट सबसे आसान और भरोसेमंद तरीका होता है। जिसमें पैसों को एक निश्चित टाइम तक निवेश किया जाता है। और उस पर मैं ब्याज भी मिल जाता है। एवं जिसकी दर बचत खाते जमा राशि पर मिलने वाली राशि से बहुत अधिक होती है। वैसे तो आप फिक्स डिपॉजिट किसी भी बैंक से कर करवा सकते हो क्योंकि भारत के अंदर जितने भी बैंक के हैं।

वह आपको फिक्स्ड डिपॉजिट प्रदान करने की सुविधा देती हैं।साथियों फिक्स डिपॉजिट यानी कि फिक्स के नाम से ही पता चलता है। जिस में एक निश्चित समय के लिए पैसा डिपॉजिट होता है। अगर हम वह तो फिक्स समय से पैसे पहले ही निकाले या फिर कोई इमरजेंसी आ गई हो तो उसके लिए हमे फिक्स डिपाजिट को तोड़ना पड़ेगा और फिक्स डिपाजिट कितने समय का होता है। यह हमारे ऊपर निर्भर होता है। वैसे फिक्स डिपाजिट लोंग टाइम एवं शॉर्ट टाइम दोनों के लिए होता है। पर फिर भी हम आपको बता दें कि फिक्स डिपॉजिट कम से कम 1 हफ्ते और अधिक से अधिक 10 साल के लिए करते हैं।

फिक्स डिपाजिट ( FB ) पर कितना intrest मिल सकता है ?

साथियों हर बैंक की ब्याज की रेट अलग-अलग होती है। और वह 6% से लेकर 9% सालाना के बीच में होती है। जिस टाइम पर आप फिक्स डिपॉजिट करवाते हो उसी समय पर जो ब्याज दर होती है। वही आपको अंत तक मिलती है फिक्स डिपॉजिट पर आपको कितना ब्याज मिलेगा यह इस बात पर डिपेंड होता है। कि आप कितने समय के लिए फंड करवा रहे हो जितने अधिक समय की फिक्स डिपॉजिट होगी उतनी ही अधिक ब्याज दर उस पर लगती है। एफडी पर ब्याज रेट सेविंग अकाउंट में जमा राशि से बहुत अधिक मिल जाता है।

फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) करने के क्या फायदे होते हैं ?

(1) साथियों FD करने का सबसे बड़ा फायदा तो यह होता है। इसमें आपको अच्छा व्यास तो मिलता ही है।इसी के साथ इसमें किसी प्रकार की कोई रिस्क नहीं होती है। आपका पैसा बिल्कुल सुरक्षित रहता है। और मार्केट में चाहे कितनी भी उतार-चढ़ाव आते रहे आपको एक सुनिश्चित ब्याज मिलता है।

🔍UPI क्या है और इसे कैसे यूज करते हैं

(2) आपके फिक्स्ड डिपॉजिट पर जो ब्याज मिलता है। आप उसे मंथली या फिर क्वार्टर ली भी ले सकते हो।

(3) अगर आपको कोई इमरजेंसी आ जाती है। तो आप फिक्स्ड डिपॉजिट के द्वारा लोन भी प्राप्त कर सकते हो। आपको अपनी FD के टोटल अमाउंट का 90% लोन आसानी से मिल सकता है, और उस पर ब्याज दर भी बहुत कम होता है।

(4) फिक्स डिपाजिट पर हमें टैक्स से भी छुटकारा मिलता है। 80 c डेडीकेशन से हमें 15000 तक की फिक्स डिपॉजिट पर कोई भी टैक्स नहीं लगता है।

🔍बैंक में ऑनलाइन खाता कैसे खोलें 2022 ?

(5) वरिष्ठ नागरिकों को फिक्स डिपोजिट करवाने पर अतिरिक्त ब्याज दर मिलता है और ऐसे लोगों को प्रत्येक बैंक प्रदान करता है। एसबीआई फिक्स्ड डिपॉजिट प्लान में साधारण सिटीजन को फिक्स डिपाजिट पर 5.25- 6.25 प्रतिशत ब्याज दर मिल जाती है उसकी पिक्चर वहीं पर अगर सीनियर सिटीजन हो तो उसके मुकाबले 6 – 6. 75% ब्याज दर मिलता है।

(6) बैंक से मैं reinvest का ऑप्शन नहीं मिल जाता है। जिसके द्वारा हम अपनी फिक्स डिपाजिट राशि को फिर से नई फिक्स डिपॉजिट में इन्वेस्ट कर सकेंगे।

फिक्स डिपॉजिट ऑनलाइन या फिर ऑफलाइन कैसे करें?दोस्तों फिक्स डिपाजिट करवाने के 2 तरीके होते हैं एक तो ऑफलाइन और दूसरा ऑनलाइन यदि आपके बैंक अकाउंट को इंटरनेट बैंकिंग एक्टिवेट होती है। तो फिर आप केवल घर बैठकर ही बहुत ही आसान तरीके से फिक्स डिपॉजिट अकाउंट खुलवा सकते हो इसके लिए आपको केवल इंटरनेट बैंकिंग में लॉगइन करना पड़ता है।

🔍CVV code क्या होता है ?

वहीं पर आपको फिक्स डिपॉजिट करने का एक ऑप्शन में मिलता है।और उस ऑप्शन के अंदर एक फॉर्म भी होता है। जिसे भरकर आप फिक्स डिपाजिट करवा सकते हो और फिक्स डिपॉजिट करने का दूसरा तरीका बैंक जाकर एफडी करवाना होता है।

वहां पर आपको एफडी करवाने के लिए एक फॉर्म भरना पड़ता है। जिस फोरम के अंदर आपको अपना आईडेंटी एवं एड्रेस प्रूफ, पैन कार्ड के साथ में पासपोर्ट साइज फोटो की जरूरत पड़ती है। एवं फॉर्म और इंपॉर्टेंट डॉक्यूमेंट के साथ साथ आपको इतनी ही धनराशि मिलती है। जितनी आप को फिक्स डिपॉजिट में जमा करनी पड़ती पैसे जमा हो जाने के बाद आपको फिक्स डिपॉजिट रिसिप्ट भी मिलती है और वह आप को संभाल कर रखनी पड़ती है।

समय से पहले एफडी तुड़वाने के क्या नुकसान हैं ?

जब हम फिक्स डिपाजिट करवाते हैं। तो हमारे पैसे एक निश्चित टाइम के लिए जमा होते हैं। जिसमें हमें ब्याज मिलता है। मगर कोई काम या फिर ऐसी इमरजेंसी आ जाती है। जिसकी वजह से हमें फिक्स्ड डिपॉजिट पूरा होने से पहले तोड़ना पड़ता है। ऐसे में कुछ नुकसान भी होते हैं। जो हमें ही भुगतने पड़ते हैं टाइम से पहले फिक्स डिपाजिट तोड़ने पर बैंक से हमें पेलेंटे भी मिल जाती है.एवं एसबीआई बैंक के द्वारा ली गई 500000 से कम की एफडी तोड़ने पर 0.5 प्रतिशत की प्लेंटी लगती है। इसी प्रकार अन्य बैंक से भी एफडी तोड़ने पर प्लेंटी लग जाती है। इसी के साथ साथ एफडी पर जो ब्याज मिलता है। वह भी बहुत कम मिलता है।

🔍फिक्स डिपाजिट ( FD ) क्या है ? 

दोस्तों जब भी आपको लगे कि फिक्स डिपाजिट करवाने से पहले पैसों की जरूरत पड़ सकती तो आपको ऐसे में थोड़े थोड़े पैसे करके कई एफडी करवाने लेनी चाहिए उदाहरण के तौर पर आपके पास ₹500000 हैं। तो आप उन्हें एक ही फिक्स्ड अमाउंट में डालने की बजाय अलग-अलग अकाउंट में एक ₹100000 की एफडी करवा दें और ऐसे में आवश्यकता पड़ने पर आप इसमें से किसी भी एक एफडी को तरवा सकते हो और इससे आपको किसी प्रकार का कोई नुकसान नहीं होगा।

🔍Home Loan कैसे लिया जाता है -2022

आज आपने क्या सीखा?

दोस्तों आशा करता हूं फिक्स डिपॉजिट क्या है? और इसके करने के तरीके क्या हैं?एवं इस के फायदे एवं नुकसान के बारे में भी हमने आप को बड़े ही विस्तार पूर्वक रूप से बता दिया है। हमें उम्मीद है हमारी यह पोस्ट आपके लिए काफी ज्यादा लाभदायक साबित रही होगी। यदि आपको हमारी पोस्ट पसंद आई हो तो इसे सोशल मीडिया जैसी प्लेटफार्म पर शेयर करना ना भूले ताकि और लोग भी इसके बारे में जानकारी हासिल कर पाए धन्यवाद।

Previous articleNFC क्या होता है, और यह कैसे काम करता है और इसके फायदे क्या हैं ?
Next articleकीवर्ड क्या होता है और यह SEO के लिए क्यों जरूरी है?
Hello नमस्कार 🙏दोस्तो स्वागत है आपका Jobvips.com वेबसाइट पर दोस्तों मेरा नाम SAUDAN SINGH है, और मैं धौलपुर राजस्थान का रहने वाला हूं। दोस्तों मैंने ग्रेजुएशन के साथ-साथ ब्लॉगिंग का भी कोर्स किया था और इसके अलावा मुझे ब्लॉगिंग के क्षेत्र में 3 साल से भी अधिक समय का अच्छा खासा एक्सपीरियंस है। दोस्तों "jobvips.com" वेबसाइट बनाने का मेरा मेन मकसद यही था कि मैं अपने सभी दोस्तों के साथ अच्छी-अच्छी जानकारी इस ब्लॉग के माध्यम से पहुंचा सकूं. दोस्तों इस ब्लॉग के माध्यम से मैं आपको ब्लॉगिंग, मेक मनी, टिप्स एंड ट्रिक्स, बैंकिंग, बिजनेस आइडिया, मार्केटिंग, यूट्यूब और सोशल मीडिया से रिलेटेड आपको टाइम टू टाइम जानकारी प्रोवाइड की जाएगी। दोस्तो यदि आपको इस वेबसाइट का कंटेंट पसंद आता है तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें। धन्यवाद 🙏।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here